Khud Ki Pahchan Hindi me Poem

Khud Ki Pahchan Hindi me Poem

heart touching lines

 
Khud Ki Pahchan Hindi me Poem


तू अपनी खूबियां ढूंढ,
कमियां निकलने के लिए
लोग हैं ना।
खुद की अलग पहचान बना
भीड़ में चलने के लिए
लोग हैं ना।
सपने देखने है तो ऊंचे देख
नीचा दिखाने के लिए
लोग हैं ना।
अगर बनाना हो तो नाम बना
बातें बनाने के लिए
लोग हैं ना।
करना है तो कुछ करके दिखा
तालियाँ बजाने के लिए
लोग हैं ना।
अपने अंदर जुनून की चिंगारी भड़का,
जलने के लिए
लोग हैं ना।
अगर रखना ही है तो आगे कदम रख,
पीछे खिंचने के लिए
लोग हैं ना।
रख हौसला बढ़ आगे,
मंजिल तक ले जाने के लिए भगवान है ना।
और ये न कहना भगवान कहाँ है,
घर में तेरे माँ बाप है ना। 

इसे पढ़े कविता संग्रह में, आपको जरुर पसंद आएगी

माँ हिंदी कविता - जब तू पैदा हुआ

कहना तो बहुत कुछ चाहता हूँ

देख लेने दे तेरे चेहरे को - मना क्यों करती हो

बहुत कर ली आशिकी अब न कर पाउँगा 

 खुद की पहचान कविता हिंदी में

किस्मत शायरी स्टेटस हिंदी में 

 एक नई गीता लिखू

 

Khud Ki Pahchan Hindi me Poem

Too Apanee Khoobiyaan Dhoondh,
Kamiyaan Nikalane Ke Lie
Log Hain Na.
Khud Kee Alag Pahachaan Bana
Bheed Mein Chalane Ke Lie
Log Hain Na.
Sapane Dekhane Hai To Oonche Dekh
Neecha Dikhaane Ke Lie
Log Hain Na.
Agar Banaana Ho To Naam Bana
Baaten Banaane Ke Lie
Log Hain Na.
Karana Hai To Kuchh Karake Dikha
Taaliyaan Bajaane Ke Lie
Log Hain Na.
Apane Andar Junoon Kee Chingaaree Bhadaka,
Jalane Ke Lie
Log Hain Na.
Agar Rakhana Hee Hai To Aage Kadam Rakh,
Peechhe Khinchane Ke Lie
Log Hain Na.
Rakh Hausala Badh Aage,
Manjil Tak Le Jaane Ke Lie Bhagavaan Hai Na.
Aur Ye Na Kahana Bhagavaan Kahaan Hai,
Ghar Mein Tere Maan Baap Hai Na.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ